सोमवार, 7 मई 2012

तुलना

नव मीन-निलय में विलय हुए
सित सरिता के सारे सुभाव.
सब सूख गये सरिता तीरे
नंदन-वन तन के हरे घाव.
नव मीत मिले निश-तिमिर नगर
नयनाभिराम नय के नरेश.
उर-सर में करते हैं नूतन
सृष्टि का फिर से वे प्रवेश.
ऋतु उन्मीलन कर रही, छोड़
जाने से पहले कर मरोड़.
नासीर भाँति कर के समूह
की उर-सर में आयी हिलोर.
जल्दी-जल्दी पिक अमी भाँति
कानों में मिश्री रहा घोल.
कहता कवि से - "है कंठ कहाँ?
अब कर लो दोनों यहीं तोल ?"

20 टिप्‍पणियां:

सुज्ञ ने कहा…

आनन्द की सलिल सरिता से साक्षात्कार!!

kunwarji's ने कहा…

आहा, कविता का रसपान शीर्ष पार पहुँच ही रहा था कि "जल्दी- जल्दी " मे मै फिसल गया...

कुँवर जी,

Kailash Sharma ने कहा…

अद्भुत...रचना का प्रवाह अपने साथ बहा ले गया...आभार

रविकर फैजाबादी ने कहा…

असरकारी |
आभार प्रतुल जी ||

Ramakant Singh ने कहा…

शब्दालंकार संग अर्थालंकार का अद्भुत संयोजन .

नव मीत मिले निश-तिमिर नगर
नयनाभिराम नय के नरेश.

मन को मोह लेते हैं ...

सञ्जय झा ने कहा…

suprabhat guruji,

apka fir se lai me aana
blog-jagat ka safar suhana banata hai....


pranam.

कुमार राधारमण ने कहा…

कुछ नए टाईप की स्मीति ढूंढ रहा था,मिली नहीं। फिलहाल,:-) ही स्वीकार किया जाए।

Sarika Mukesh ने कहा…

आपका ब्लॉग शायद आज पहली बार ही देखा; ऐसा लगा जैसे किसी हिंदी व्याख्यान कक्षा में पहुँच गए हों! अच्छी कविताओं का संकलन!!!
हार्दिक बधाई और धन्यवाद!
सादर/सप्रेम
सारिका मुकेश

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

@ सुज्ञ जी, आनुप्रासिक शब्दावली में दे रहे हो प्यार. बहुत आभार बहुत आभार.

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

@ कुँवर जी, रसपान करने वाले फिसला नहीं करते...
अतिरसपान में मादकता होती है... इसलिये आप फिसले.

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

@ आदरणीय कैलाशजी, आप जहाँ भी बहकर पहुँचेगे वहीं की ज़मीन उपजाऊ हो जायेगी. मैं आभारी हूँ कि आप मुझे आशीर्वाद देने आते हैं.

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

@ रविकर जी,

कविश्रेष्ठ से संक्षिप्त प्रतिक्रिया भी बहुत असरकारी होती है. वह चाहे आकर 'हुं' भर कर जाये... बहुत होता है.

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

@ रमाकांत जी, आपकी आखें भी मेरे स्वभाव वाली हैं... अलंकारों को पहले देखती हैं.

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

@ प्रिय सञ्जय जी, मन में जब भी वलय बनते हैं... आत्मीय जन समझते हैं कि लय में लौट रहा हूँ.

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

@ कुमार राधारमण जी,
नये के चक्कर में सनातन 'स्मिति' भी वक्र हो जाती है.

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

@ सारिका एवं मुकेश जी,

मुझे आपका आना इसलिये भी सुहा रहा है कि आप युग्म रूप में 'सारिकामुकेश' हैं तो मैं 'सारिकाप्रतुल'.

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" ने कहा…

aisee rachnaon ko padhkar to dil se ek hee awaj uthti hai,,wah wah..sadar badhayee ke sath

Shanti Garg ने कहा…

बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

@ डॉ. आशुतोष जी,
ब्लॉग में 'रचना' चेपना तो एक बहाना है... दरअसल उद्देश्य मन के एकांत में 'बतरस बैठक' ज़माना है. हो सकता है कि रचनाएँ 'बोधगम्य' न हों और वे प्रशंसा के योग्य भी न हों..... लेकिन फिर भी ये 'आभासिक मिलन' हमें सामाजिक बनाए हुए हैं.भौतिक समाज में मिलना-जुलना कितना कम हो गया हैं... कहीं-कहीं पूरी तरह खत्म भी.... मेरा कोई-न-कोई 'रचना चेपना' उस सामाजिकता को अपने घर में जीवित रखने का प्रयासभर है.

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

@ शांति गर्ग जी,
आपके निमंत्रण पर जल्द अमल करूँगा.