बुधवार, 23 मार्च 2011

मिल गयी हमारी छिपी बात

मिल गयी हमारी छिपी बात 
लज्जा से गुंठित थे कपाट. 
तेरी सखि शोधक बहुत तेज़ 
रखते तुम क्यों नज़रें सपाट?

हो सरल हृदय करुणाभिसिक्त 
दीठी सखि की है स्यात तिक्त.
पिछली कविता का भेद खोल 
कारण जाना 'मम स्नेह रिक्त'.*

बलहीन कलम कविता विहीन 
हत मीन नयन मेरी ज़मीन.
नट बने भाव आते-जाते.
जीवट पर तेरे है यकीन. 


'स्नेह रिक्त' =  'तेल की कमी' 
इस कमी के कारण दीप कहीं बुझ न जाये इसलिए 'दर्शन' की चाहना बनी रहती है.

5 टिप्‍पणियां:

सञ्जय झा ने कहा…

suprabhat guruji....

achhi kavita......manbhavan......

ab apka picha karne lage hain......
jiska fayada ..... niramish...vichar-shunya...gauravji...ke saath apke/apne priya mitra sugyaj evam amitji ke vishad darshan hue.........
yathsthan kuch kah nahi paya...lekin
baat apni kahni thi...kah diya.....

vishesh...shesh


pranam.

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत अच्छी अभिब्यक्ति| धन्यवाद|

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छी लगी यह रचना।

ZEAL ने कहा…

दर्शन की हो अथवा ज्ञान की पिपासा , लाभकारी ही है । हम जीवित हैं और सतत क्रियाशील हैं , इस बात की और इंगित करती है।

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

गहन अभिव्यक्ति..... यह सोच ही हमें गतिशील बनाये रखती है....