बुधवार, 4 मार्च 2015

काव्य-शिक्षा [आशु कविता – 4]

आशु कविता का जन्म एक तरह के मानसिक दबाव में होता है। यह मानसिक दबाव सृजनात्मक होता है। यह स्वतः निर्मित हो सकता है और काव्य-लेखन करवाने वाले सहजकर्ता द्वारा भी निर्मित किया गया हो सकता है।
आरंभ में काव्य-गुरु (आचार्य) सहजात प्रतिभा वाले छात्रों के साथ आहार्य प्रतिभा वाले छात्रों को भी छंदशास्त्र की शिक्षा देता था। 

सहजात प्रतिभा वाले 'सारस्वत' कोटि के कवि कहे गए। जो पूर्व जन्म के संस्कारों द्वारा मिली अथवा माता-पिता के संस्कारों से मिली (जन्मजात) प्रतिभा से सम्पन्न होते हैं। आहार्य प्रतिभा दो प्रकार की होती है – पहली आभ्यासिकी और दूसरी औपदेशिकी। 

प्रतिभाओं के इन आधारों पर आशु कवि भी तीनों प्रकार के हो सकते हैं।
-    - सारस्वत आशु कवि
-    - औपदेशिक आशु कवि
-    - आभ्यासिक आशु कवि
श्रेष्ठ पाठक और श्रोता आशु रचनाओं को पढ़कर और सुनकर ही अनुमान लगा सकते हैं कि कौन-सी रचनाएँ किस प्रतिभा से अंकुरित हुई हैं।

इस बार एक आशु रचना 'बसंती' जी की दे रहा हूँ :




"सड़क"
जब अपने चारों तरफ देखती हूँ
तो बड़ा दुःख होता है मुझे
दौड़ में आगे निकलने के चक्कर में
सब भागते ही जाते हैँ, भागते ही जाते हैँ।
उनकी इस भगदड़ से मुझपर क्या बीतती है
किसी को कोई फिक्र नहीं
उनके पैरों की थप-थप
गाड़ी के टायरों की रगड़
लोगों के मुँह की पिचकारी की लाल धार
बार-बार पड़ने वाले हथौड़ों की
मार ने मुझे इतना छेद डाला है
कि उसका दर्द सहा नहीं जाता
पर इस बारे में सोचने का
किसी के पास न तो समय
है और न ही जरूरत।
मुझ पर रात को खड़े होकर
दोस्तों से बात तो कर सकते हैं
चाट-पकौड़ी खा सकते हैं
मुझ पर रोब जमा सकते हैं
पर मेरे दर्द को महसूस करने का
मुझे पहचानने का किसी
के पास न तो समय है
और न ही जरूरत ……
समझदार, जीते-जागते लोगों !
थोड़ा समय निकालो और
मुझ निर्जीव के बारे में भी सोचो ……
- बसंती, दिल्ली

1 टिप्पणी:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

रंगों के महापर्व होली की
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (06-03-2015) को "होली है भइ होली है" { चर्चा अंक-1909 } पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'