सोमवार, 2 अगस्त 2010

मुख अम्लान

श्याम लोचन विस्फारित लोल
मधुर लगते तेरे सब बोल
गीत गाते जो तुम चुपचाप
सुना करता कानों को खोल.

याद है मुझको पहली बार
छींट से देकर मैंने चार
किये थे अपने दोनों नयन
आपसे खुलवा चख के द्वार.

घने नभ में छाये थे मेघ
टपाटप बूँदों को मैं देख
रहा था, तेरा मुख अम्लान
तुरत चमकी चपला-सी रेख.

[गगन में मेघ घिरते हैं, किसी की याद घिरती है... ...अज्ञेय]

3 टिप्‍पणियां:

VICHAAR SHOONYA ने कहा…

भयभीत विचारशक्ति.

भयभीत हूँ इन शब्दों से जो समझ ना आते .

और प्रयास करूँ तो कहीं दूर मुझे ले जाते .

जी कहता मेरा काश कभी तो पकड़ में आते.

इन कठिन शब्दों से मित्र अपन बहुत घबराते.



कहते हैं दर्द आदमी को कवि बना देता है.तो देखा मित्र कठिन शब्दों को ना समझ पाने के दर्द ने मुझे कवि बना दिया.

Pratul ने कहा…

भयभीत न हो ओ मित्र मेरे.
अर्थ भी शब्द-शब्द का किये देता हूँ.
श्याम लोचन - काली आँखें
विस्फारित - पूरी खुली हुई
लोल - सुन्दर
मधुर - मीठे मीठे
चख - आँखें
चख के द्वार - पलक
मेघ - बादल
अम्लान - जो मुरझाया हुआ न हो मतलब खिला हुआ.
चपला - बिजली
रेख - रेखा,
चपला-सी रेख - तड़ित, बिजली कि कौंध
शायद अब अर्थ लगाना सहज हो.
१ [ ओ बड़ी-बड़ी सुन्दर काली आँखों वाली! जब मैं तुम्हारे चुपचाप गाये गए गीत के मधुर स्वर को आता हुआ सुनता हूँ तब मैं उस स्वर के बोलों को समझने की कोशिश में अधिक ध्यान देने लगता हूँ. ]
२ [ मुझे याद है वह समय जब बारिश में भीगे हुए मैंने स्वयं को निचोड़ कर आपके मुँह पर छींटे मारकर पहली बार अपने दो नयनों को सहसा चार कर लिया था. ]
३ [ तब आकाश में घनघोर बादल छाये थे, मैं टपकती बूँदों के साथ तेरे अम्लान मुख को देख रहा था. तभी बादलों के बीच बिजली कौंध गयी. ] उस अद्वितीय क्षण को मैं भूल नहीं सकता. उस क्षण का सौन्दर्य मुझे बादलों के छाने के साथ याद आ जाता है.
मित्र भाव-शून्यता की स्थिति में सामने कराहता व्यक्ति भी के. एल. सहगल द्वारा गाये नगमे की भाँती त्याज्य लगता है. लेकिन कुछों को सहगल साहब आज भी पसंद हैं. उन्होंने उनकी आज भी प्रासंगिकता बनाए हुई है. बेशक वे संख्या में काफी कम हैं.

आपने सच कहा दर्द से कविता पैदा होती है.
"वियोगी होगा पहला कवि, आह से उपजा होगा गान.
उमड़कर आँखों से चुपचाप बही होगी कविता अनजान." --- पन्त.

अपनीवाणी ने कहा…

अब आपके बीच आ चूका है ब्लॉग जगत का नया अवतार www.apnivani.com
आप अपना एकाउंट बना कर अपने ब्लॉग, फोटो, विडियो, ऑडियो, टिप्पड़ी लोगो के बीच शेयर कर सकते हैं !
इसके साथ ही www.apnivani.com पहली हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट है| जन्हा आपको प्रोफाइल बनाने की सारी सुविधाएँ मिलेंगी!

धनयवाद ...